चीन बना रहा दुनिया का सबसे तेज SuperComputer, 10 गुना ज्यादा तेज करेगा काम

तकनीकी दुनिया काफी तेजी से आगे बढ़ रही है। इस रेस में चीन आगे निकलता जा रहा है। आपको बता दें कि चीन एक ऐसा सुपरकंप्यूटर बना रहा है, जो दुनिया के मौजूद किसी भी कंप्यूटर से 10 गुना ज्यादा तेज काम करेगा। इसकी स्पीड चीन के पहले सनवे तइहुलाइट कंप्यूटर से भी तेज होगी। चीन इसे नेशनल सुपरकंप्यूटर तियानजिन सेंटर में बना रहा है। इस सेंटर के डायरेक्टर मेंग शियानफेई ने कहा कि चीन की यह कोशिश है कि वह दुनिया के पहले प्रोटोटाइप एक्सास्केल सुपरकंप्यूटर ‘तिन्हे-3’ के प्रोडक्शन के लिए हाई परफॉर्मेंस प्रोसेसर और दूसरी अहम टैक्नोलॉजी हासिल कर पाए।

2018 तक बनेगा सुपरकंप्यूटर: एक रिपोर्ट के मुताबिक, यह प्रोजेक्ट 2018 तक पूरा होने की उम्मीद है। इसमें एक्सास्केल का मतलब है कि यह एक क्यूटीलियान (एक के बाद 18 से 0 तक) परसेकेंड कैल्कुलेशन कर सकता है। इसके लिए चीन ने घरेलू डिजाइन प्रोसेसर का इस्तेमाल किया है। यह दुनिया का सबसे तेज कंप्यूटर होगा। खबरों की मानें तो सुपरकंप्यूटर यूजर को आसानी से उपलब्ध कराया जाएगा। साथ ही इससे बेहद जटिल साइंटिफिक चुनौतियों से ज्यादा तेज स्पीड, एक्यूेरेसी और ब्रॉड लैवल पर साल्यूशन निकाला जा सकेगा।

आपको बता दें कि अगर भारत में सुपरकंप्यूटर बनाने की बात की जाए, तो फिलहाल भारत इस रेस में नहीं है। वहीं, आरमैक्स स्कोर के तहत वर्ल्ड के टॉप 500 सुपर कंप्यूटर की सालाना लिस्ट में चीन सात बार टॉप पर रहा है। यही नहीं, चीन ने इस मामले में अमेरिका को भी पीछे छोड़ दिया है। चीन के पास दुनिया में सबसे ज्यादा 167 सुपरकंप्यूटर मौजूद हैं, जबकि अमेरिका के 165 सुपरकंप्यूटर हैं। अगर भारत की बात की जाए, यहां केवल 9 सुपरकंप्यूटर हैं।

– See more at: http://www.jagran.com/technology/tech-news-worlds-first-exascale-supercomputer-making-by-china-15570341.html
Source: Jagran Tech


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *